UP Board Solutions for Class 4 EVS Hamara Parivesh Chapter 15 हमारे कुछ शासक

UP Board Solutions for Class 4 EVS Hamara Parivesh Chapter 15 हमारे कुछ शासक quickly completing your homework and preparing for exams. All questions and answers from the UP Board Solutions Class 4 EVS Hamara Parivesh Chapter 15 are provided here.

UP Board Solutions for Class 4 EVS Hamara Parivesh Chapter 15 हमारे कुछ शासक

चंद्रगुप्त विक्रमादित्य

प्रश्न.
क्या तुम्हारे घर/गाँव के आस-पास कोई मूर्ति या बर्तन बनाने वाला रहता है? वह इन्हें किस चीज से बनाता है? जानो और लिखो-
उत्तर:
मूर्ति-प्लास्टर ऑफ पेरिस।
बर्तन-मिट्टी, धातु।

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
भित्ति चित्र किसे कहते हैं?
उत्तर:
गुफा की दीवारों पर रंगों से बनाए गए सुंदर चित्र को भित्ति चित्र कहते हैं। जैसे-अजंता की गुफा में बने हुए चित्र।

प्रश्न २.
लौह स्तम्भ कहाँ स्थित है?
उत्तर:
लौह स्तंभ दिल्ली में महरौली के पास स्थित है।

प्रश्न ३.
रिक्त स्थानों की पूर्ति करो (पूर्ति करके)
उत्तर:
(क) चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य की राजधानी पाटलिपुत्र एवं उज्जैन थी।
(ख) अभिज्ञान शाकुंतलम् कालिदास की रचना है।
(ग) धनवंतरि आयुर्वेद के विद्वान और चिकित्सक थे।
(घ) चीनी यात्री फाह्यान चन्द्रगुप्त द्वितीय के समय भारत आया।

पता करो

प्रश्न.
दिल्ली में और कौन-कौन सी ऐतिहासिक इमारतें हैं? सूची बनाओ।
उत्तर:
दिल्ली में निम्नलिखित ऐतिहासिक इमारतें हैं- लाल किला, पुराना किला, कुतुबमीनार, हुमायूँ का मकबरा इत्यादि।

( हर्षवर्धन )

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
हर्षवर्धन ने आज से कितने वर्ष पूर्व राज्य किया था?
उत्तर:
१४०० वर्ष पहले।

प्रश्न.
हर्षवर्धन के समय में कौन यात्री भारत आया था?
उत्तर:
ह्वेनसांग

प्रश्न २.
कथन के आगे बाक्स में (✓) या (✗) का निशान लगाओ। (निशान लगाकर)

  • हर्षवर्धन अपनी सम्पत्ति का दान नहीं करते थे। (✗)
  • बाणभट्ट हर्षवर्धन के सेनापति थे। (✗)
  • कादम्बरी हर्षवर्धन ने लिखी। (✓)
  • ‘नालन्दा’ एक विश्वविद्यालय था। (✓)

(राजेंद्र चोल )

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
सही कथन के आगे (✓) और गलत के आगे (✗) का चिह्न लगाओ-

  • राजेंद्र चोल दक्षिण भारत के राजा नहीं थे। (✗)
  • राजेद्र चोल के राज्य में व्यापार की उन्नति हुई। (✓)
  • उनके राज्य के व्यापारी नावों और जहाज़ों में बैठकर जावा, सुमात्रा आदि देशों तक व्यापार करने जाते थे। (✓)
  • इनके राज्य में लोग खेती भी करते थे। (✓)

कृष्णदेव राय

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
उत्तर दें-

प्रश्न .
तेनालीराम कौन थे?
उत्तर:
कृष्णदेवराय के मित्र और दरबारी थे।

प्रश्न.
विजयनगर किस नदी के किनारे बसा हुआ था?
उत्तर:
विजयनगर तुंगभद्रा नदी के किनारे बसा हुआ था।

प्रश्न.
कृष्णदेव राय के आठ दरबारी किस नाम से प्रसिद्ध थे?
उत्तर:
कृष्णदेव राय के आठ दरबारी ‘अष्ट दिग्गज’ नाम से प्रसिद्ध थे।

प्रश्न २.
सही कथन के आगे (✓) और गलत के आगे (✗) का निशान लगाओ-

  • कृष्णदेव राय ने खेतों की सिंचाई के लिए कई बाँधों, नहरों, जलकुंडों और झीलों का निर्माण कराया। (✓)
  • कृष्णदेव राय अपनी प्रजा से बहुत प्यार करते थे। (✓)
  • विजयनगर यमुना नदी के किनारे बसा हुआ था। (✗)
  • कृष्णदेव राय तेलगु और संस्कृत भाषा के विद्वान थे। (✓)

( पृथ्वीराज चौहान )

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
इन शब्दों को नीचे दिए खाली स्थानों पर भरो (भरकर)मुहम्मद गौरी, तराइन, पृथ्वीराज, राजस्थान, बुन्देलखण्ड, पृथ्वीराज रासो।
उत्तर:
पृथ्वीराज ने राजस्थान के कई राज्यों को अपने राज्य में मिलाया। पृथ्वीराज ने बुन्देलखण्ड राज्य पर अधिकार नहीं किया। तराइन के मैदान में मुहम्मद गौरी तथा पृथ्वीराज की सेनाओं के बीच युद्ध हुआ। चंदबरदाई ने पृथ्वीराज रासो नाम की पुस्तक लिखी।

प्रश्न २.
नीचे लिखे कथन के आगे (✓) या (✗) का निशान लगाएँ-

  • कवि चंदबरदाई मुहम्मद गौरी के दरबारी कवि थे। (✗)
  • ‘पृथ्वीराज रासो’ पुस्तक पृथ्वीराज ने लिखी। (✗)
  • मुहम्मद गौरी के साथ दूसरी लड़ाई में पृथ्वीराज जीते। (✗)

प्रश्न ३.
UP Board Solutions for Class 4 EVS Hamara Parivesh Chapter 15 हमारे कुछ शासक 1

(अलाउद्दीन खलजी)

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
बताओ, निम्नलिखित में कौन क्या था। रामचंद्र , मंगोल, अमीर खुसरो, हसन, अलाउद्दीन खलजी।
उत्तर:
रामचंद्र-राजा, अलाउद्दीन खलजी-सुल्तान, मंगोल-आक्रमणकारी, अमीर खुसरो-कवि, हसन-विद्वान।

प्रश्न २.
सही कथन के आगे (✓) और गलत कथन के आगे (✗) निशान लगाएँ-

  • अलाउद्दीन खलजी आज से सात सौ वर्ष पहले दिल्ली का सुल्तान बने थे। (✓)
  • अलाउद्दीन ने अनाज, कपड़ा, हाथी, घोड़ा आदि के दाम बढ़ाए। (✗)
  • अलाउद्दीन का राज्य बहुत छोटा था। (✗)

स्वयं करो-

प्रश्न ३.
पहेलियाँ ढूँढो, उन्हें याद करो और एक-दूसरे से पूछो।
नोट-विद्यार्थी पहेलियाँ ढूँढें, उन्हें याद करें और एक-दूसरे से स्वयं पूछे।

( शेरशाह सूरी )

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
फरीद का नाम शेर खाँ क्यों पड़ा?
उत्तर:
फरीद ने बचपन में एक शेर मारा था। इसलिए उसे शेर खाँ की उपाधि दी गई।

प्रश्न २.
खाली जगहों को भरो (भरकर )
उत्तर:
शेरशाह ने कोलकाता से पेशावर तक जाने वाली पुरानी शाही सड़क की मरम्मत करवाई। उनके राज्य में अपराधियों को कठोर दंड दिया जाता था।

प्रश्न ३.
पता करो और इनके उपयोग के विषय में एक-एक वाक्य लिखो-
उत्तर:
भोजनालय-जहाँ लोग दुकानों पर पैसे देकर भोजन करते हैं, होटल या भोजनालय कहलाते हैं। सराय-यात्रा में जहाँ लोग रात्रि में ठहरते हैं, सराय कहलाती है। सड़क-आने-जाने के लिए पक्के, चौड़े रास्ते सड़क कहे जाते हैं।

प्रश्न ४.
भारत की सड़कों का नक्शा देखकर उन राज्यों के नाम लिखो, जहाँ से होकर ग्रांड ट्रंक रोड गुजरती है।
उत्तर:
जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल।

प्रश्न ५.
शेरशाह के समय चारों ओर जंगलों की बहुतायत थी। जमीन ऊबड़-खाबड़ थी, उस समय उसने बड़ी-बड़ी और लंबी-चौड़ी सड़कें बनवाई। सोचकर बताओ कि शेरशाह को ये सड़कें बनाने में क्या कठिनाई आई होगी।
उत्तर:
यातायात के सुगम साधन- रेलगाड़ी, मोटरगाड़ी आदि नहीं थे इसलिए सामान लाने-ढोने में परेशानी हुई होगी तथा सड़क बनवाने में बहुत विलंब हुआ होगा।

प्रश्न ६.
सोचकर बताओ कि राजा के खजाने में कहाँ-कहाँ से पैसा आता होगा?
उत्तर:
किसानों से कुल उपज का चौथाई हिस्सा तथा व्यापारियों से व्यापार कर लिया जाता था। यही पैसा राजा के खज़ाने में आता था।

( अकबर )

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
अकबर ने साहित्य को बढ़ावा देने के लिए क्या किया?
उत्तर:
अकबर साहित्य प्रेमी था। उसने रामायण, महाभारत और संस्कृत के ग्रन्थों का फारसी में तथा फारसी पुस्तकों का संस्कृत में अनुवाद कराया। अकबर के दरबार में साहित्य के विद्वान भी रहते थे।

प्रश्न २.
निम्नलिखित के बारे में लिखोअब्दुर्रहीम खानखाना, बीरबल, अबुल फजल, टोडरमल, तानसेन।
उत्तर:
अब्दुर्रहीम खानखाना सेनानायक व कवि थे। बीरबल अकबर के दरबार में एक मंत्री थे जो अपनी हाज़िरजवाबी के लिए आज भी प्रसिद्ध हैं। अबुल फजल अकबर के समय के इतिहासकार थे। टोडरमल अकबर के दरबार में वजीर थे। तानसेन एक अच्छे गायक थे।

प्रश्न ३.
खाली जगहों को पूरा करो (पूरा करके)

  • अकबर ने दीन-ए-इलाही नाम से एक धर्म चलाया। दीन-ए-इलाही का अर्थ है-ईश्वर का धर्म
  • अकबर ने आगरा, इलाहाबाद और लाहौर के किले भी बनवाए।
  • बीरबल अपनी हाजिर जवाबी (वाक्पटुता) के लिए प्रसिद्ध थे।

प्रश्न ४.
अकबर द्वारा बनवाई गई इमारतों के चित्र एकत्र करके कॉपी में चिपकाओ। चित्रों के नीचे उनके बारे में दो-दो बातें अपने मन से लिखो।
नोट-विद्यार्थी स्वयं करें। अकबर ने आगरा, इलाहाबाद और लाहौर के किले भी बनवाए।

प्रश्न ५.
अकबर के राज्य के फैलाव को मानचित्र में देखो तथा लिखो।
उत्तर:
अकबर के राज्य का फैलाव बंगाल से काबुल तथा कश्मीर से लेकर अहमदनगर तक था।

प्रश्न ६.
बीरबल से संबंधित कहानी अपने बड़ों से सुनो। नोट-विद्यार्थी पाठ पढ़कर कहानी स्वयं लिखें।

( रानी दुर्गावती )

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
अकबर एवं रानी दर्गावती के बीच लड़ाई क्यों हुई?
उत्तर:
अकबर रानी दुर्गावती के राज्य गढ़मण्डला को अपने राज्य में मिलाना चाहता था और रानी दुर्गावती इसके लिए तैयार नहीं हुईं। इसलिए रानी दुर्गावती तथा अकबर के बीच लड़ाई हुई।

प्रश्न २.
रिक्त स्थानों को भरो (भरकर) –
दुर्गावती गढ़मण्डला (गोंडवाना) राज्य की शासिका थी। बरेला गाँव के समीप अकबर की सेना ने दुर्गावती को घेर लिया। अकबर ने उनके युद्ध-कौशल की प्रशंसा की।

प्रश्न ३.
निम्नलिखित के चित्र ढूँढ़कर अपनी कॉपी में चिपकाओ और उस पर दो वाक्य लिखो।
उत्तर:
धनुष-बाण, टैंक, लड़ाकू जहाज, रॉकेट।
नोट-विद्यार्थी स्वयं चित्र चिपकाकर दो-दो वाक्य लिखें।

राणा प्रताप

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
राणा प्रताप एवं अकबर के बीच युद्ध क्यों हुआ?
उत्तर:
अधीनता स्वीकार न करने पर अकबर ने राणा प्रताप के विरुद्ध युद्ध छेड़ दिया।

प्रश्न २.
सही उत्तर के आगे (✓) और गलत के आगे (✗) का निशान लगाओ-
हल्दीघाटी के युद्ध में-
(अ) राणा प्रताप मारे गए। (✗)
(ब) राणा प्रताप शत्रु के हाथ नहीं आए। (✓)
(स) अकबर मारे गए। (✗)

प्रश्न ३.
रिक्त स्थानों की पूर्ति करो (पूर्ति करके)-

  • अकबर की सेना और राणा प्रताप के बीच हल्दीघाटी के मैदान में युद्ध हुआ।
  • राणा प्रताप ने अकबर के सामने घुटने नहीं टेके।
  • राणा प्रताप आज़ादी से प्यार करने वाले एक वीर राजा थे।
  • अधीनता एवं स्वतंत्रता में क्या अंतर है? इस पर बच्चों के साथ चर्चा करें। कोई उदाहरण देकर बच्चों को इसका अर्थ समझाएँ।

उत्तर:
अधीनता-किसी के अधीन रहना, वश में रहना। स्वतंत्रता-जो स्वेच्छा से अर्थात् बिना किसी बंधन के अपना कार्य करें। नोट-अध्यापक इसका उदाहरण देकर बच्चों को समझाएँ और चर्चा करें।

(छत्रपति शिवाजी)

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
शिवाजी के बारे में चार पंक्तियाँ लिखो।
उत्तर:
शिवाजी एक कुशल शासक थे। २. केवल अट्ठारह वर्ष की आयु में ही कई किलों को जीतकर उन्होंने मराठा राज्य का विस्तार किया। ३. राजगद्दी के अवसर पर इन्हें छत्रपति की उपाधि दी गई। ४. वे किसी के साथ धार्मिक भेदभाव नहीं करते थे।

प्रश्न २.
निम्नलिखित के सही मिलान करो (मिलान करके)
उत्तर:
शिवाजी के गुरु – कोंड देव
छत्रपति – उपाधि
किले – राजगढ़, कोडण, तोरण

प्रश्न ३.
निम्नलिखित खाली जगहों को भरो (भरकर)
उत्तर:
शिवाजी के शासन की देखभाल आठ मंत्री मिलकर करते थे। जिन्हें अष्ट प्रधान कहा जाता था। सरकारी खर्च के लिए किसानों से उपज का एक-चौथाई अनाज लिया जाता था।

स्वयं करें-

प्रश्न ४.
अपने बड़ों से रामायण एवं महाभारत की कहानी सुनें। नोट-विद्यार्थी कहानी स्वयं सुनें।

(गुरु गोविन्द सिंह)

हमारे कुछ शासक अभ्यास

प्रश्न १.
निम्नलिखित के विषय में लिखो-
उत्तर:
पंच प्यारे-गुरु गोविंद सिंह के शिष्य पंच प्यारे जो सिक्ख कहलाए। ये सभी खालसा पंथ को मानने वाले हुए।
सिक्ख-गुरु गोविंद सिंह का चलाया धर्म सिक्ख धर्म या खालसा पंथ कहलाया।
गुरु ग्रंथ साहिब-यह सिक्ख धर्म का मुख्य ग्रंथ है। इसमें सभी धर्मों के भजन, दोहों, गीतों का संग्रह है। गुरु के पश्चात ‘गुरुग्रंथ साहिब’ को ही गुरु माना गया।

कितना सीखा?

प्रश्न के उत्तर दो-

प्रश्न (१)
कृष्णदेव राय ने प्रजा के लिए क्या-क्या किया?
उत्तर:
विजयनगर के शासक कृष्णदेव राय प्रतापी राजा थे। उन्होंने अनेक प्रजाहित के कार्य किए, बाँध, नहरें, तालाब आदि बनवाए। इस कारण प्रजा खुशहाल थी।

प्रश्न (२)
निम्नलिखित व्यक्ति क्यों प्रसिद्ध हैं: राजेंद्र चोल, कृष्णदेव राय, अलाउद्दीन खलजी, सम्राट अकबर, महाराणा प्रताप, शिवाजी।
उत्तर:
विद्यार्थी इस प्रश्न के उत्तर हेतु प्रोजेक्ट कार्य के प्रश्न १ का उत्तर पढ़ें।

प्रश्न (४)
बीरबल एवं तेनालीराम को हम आज भी क्यों याद करते हैं? सोचकर लिखो।
उत्तर:
बीरबल और तेनालीराम विद्वान और हाजिर जवाब होने के साथ कठिन-से-कठिन समस्या को भी आसानी से सुलझा लेते थे। इसलिए हम आज भी उन्हें याद करते हैं।

प्रश्न (५)
निम्नलिखित वाक्यों की पूर्ति करो।
उत्तर:
(क) तराइन का युद्ध पृथ्वीराज चौहान तथा मुहम्मद गौरी के बीच हुआ।
(ख) अकबर ने फतेहपुर सीकरी में बुलन्द दरवाजा बनवाया।

प्रश्न (६)
निम्नलिखित कथन के संबंध में सही उत्तर पर (✓) का चिह्न लगाओ
(क) चंद्रगुप्त विक्रमादित्य के शासन काल में चीनी यात्री भारत आया
(अ) फाह्यान (✓)
(ब) वेनसांग
(स) मेगस्थनीज
(द) इत्सिंग

(ख) तंजौर के वृहदेश्वर मंदिर में नटराज की मूर्ति का निर्माण कराया-
(अ) चंद्रगुप्त विक्रमादित्य
(ब) कृष्णदेव राय
(स) राजेंद्र चोल(✓)
(द) रानी दुर्गावती

(ग) अकबर ने फतेहपुर सीकरी में बनवाया-
(अ) बुलन्द दरवाजा (✓)
(ब) महरौली का स्तंभ
(स) दिल्ली का लालकिला
(द) इलाहाबाद का किला।

प्रोजेक्ट कार्य-१

प्रश्न १.
पाठ में आए शासकों के बारे में दो-दो वाक्य लिखो।
उत्तर:
पाठ में दिए प्रमुख व्यक्ति-

चंद्रगुप्त विक्रमादित्य – उज्जैन के गुप्तवंश के महान राजा थे। यह काल इतिहास में स्वर्ण-युग कहा जाता है। इस काल में महान कवि कालिदास और खगोल के प्रसिद्ध वैज्ञानिक आर्यभट्ट हुए। –

हर्षवर्धन – अंति: महान हिंदू सम्राट था। वह दानी, वीर, विद्वान और प्रजा पालक था।

राजेंद्र चोल – १००० वर्ष पहले यह दक्षिण का प्रतापी राजा था। इसने उत्तरी भारत में उड़ीसा और बंगाल को जीतकर गंगईकोंड की उपाधि धारण की।

कृष्णदेवराय – तुंगभद्रा नदी के किनारे बसे विजयनगर का प्रतापी राजा था। संस्कृत और तेलुगू का अच्छा विद्वान था। इसके दरबार में आठ प्रसिद्ध विद्वान थे, जिन्हें ‘अष्ट दिग्गज’ कहते हैं।

पृथ्वीराज चौहान – दिल्ली और अजमेर का प्रतापी राजपूत राजा था। उसने मुहम्मद गौरी से लोहा लिया।

अलाउद्दीन खलजी – आज से ७०० वर्ष पूर्व खलजी वंश का प्रतापी सुलतान था, जिसने अपनी विजयों के बल पर भारत में एक साम्राज्य स्थापित किया।

शेरशाह सूरी – इसने करीब ४५० वर्ष पहले हुमायूँ को हराकर एक संगठित राज्य की स्थापना की। ग्रांड ट्रंक रोड का निर्माण कराया और प्रजा हित के अनेक कार्य किए।

अकबर – शेरशाह सूरी के बाद मुगल वंश का महान शासक हुआ। इसके दरबार में नवरत्न थे जिसमें बीरबल, टोडरमल और तानसेन प्रसिद्ध हैं। इसका साम्राज्य बहुत बड़ा था।

रानी दुर्गावती – गढ़मंडला की वीरांगना रानी थी, जिसने अकबर की अधीनता स्वीकार नहीं की और मुगलों से युद्ध करती हुई वीरगति को प्राप्त हुई। स्वयं अकबर ने उसके युद्ध-कौशल की प्रशंसा की।

राणा प्रताप – अकबर के समकालीन मेवाड़ के वीर राजपूत महाराणा थे, जिन्होंने अकबर से हल्दीघाटी में लोहा लिया और अंतिम साँस तक स्वतंत्र रहकर राजपूती शान को बरकरार रखा।

छत्रपति शिवाजी – प्रथम मराठा राजा थे, जिन्होंने एक संगठित मराठा राज्य की स्थापना की और औरंगजेब से लोहा लिया। उन्होंने छापामार युद्ध नीति अपनाई। वे कुशल शासक थे।

गुरु गोविंद सिंह – सिक्खों के दसवें गुरु थे। वे त्याग और बलिदान की साक्षात् मूर्ति थे। वे साहित्यकार और हिंदी के कवि भी थे। शिवाजी की तरह गुरु गोविंद सिंह ने भी औरंगजेब से लड़ाइयाँ लड़ी और उसकी कट्टरता से संघर्ष किया। उनके दो पुत्र युद्ध में मारे गए और दो को जिंदा दीवार में चुनवा दिया गया।

प्रोजेक्ट कार्य-२

प्रश्न 2.
पाठ में आई इमारतों के नाम व उनके स्थान लिखो।
उत्तर:
UP Board Solutions in hindi Class 4 EVS Parakh Chapter 15 हमारे कुछ शासक ex 1

प्रश्न ३.
अपने आस-पास की किसी प्राचीन इमारत को गौर से देखो और लिखो ( उसके आस-पास रहने वाले लोगों से पूछकर लिखो) –
नोट-विद्यार्थी स्वयं करें।

error: Content is protected !!
Scroll to Top