UP Board Solutions for Class 11 Sahityik Hindi नाटक Chapter 1 कुहासा और किरण

UP Board Solutions for Class 11 Sahityik Hindi नाटक Chapter 1 कुहासा और किरण (विष्णु प्रभाकर) are part of UP Board Solutions for Class 11 Sahityik Hindi . Here we have given UP Board Solutions for Class 11 Sahityik Hindi नाटक Chapter 1 कुहासा और किरण (विष्णु प्रभाकर).

Board UP Board
Textbook NCERT
Class Class 11
Subject Sahityik Hindi
Chapter Chapter 1
Chapter Name कुहासा और किरण (विष्णु प्रभाकर)
Number of Questions 8
Category UP Board Solutions

UP Board Solutions for Class 11 Sahityik Hindi नाटक Chapter 1 कुहासा और किरण (विष्णु प्रभाकर)

Amulya Ka Charitra Chitran प्रश्न 1:
‘कुहासा और किरण’ नाटक की कथावस्तु पर प्रकाश डालिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक के सर्वाधिक मार्मिक प्रसंग पर प्रकाश डालिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक के द्वितीय अंक की कथा का सारांश लिखिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक के तृतीय (अन्तिम) अंक की कथा पर संक्षिप्त प्रकाश डालिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक के प्रथम सर्ग की कथा का सार लिखिए।
या
‘कुहासा और किरण’ की कथावस्तु संक्षेप में लिखिए।
या
कथानक के ऐतिहासिक आधार पर प्रकाश डालिए।
उत्तर:

कुहासा और किरण Pdf ‘कुहासा और किरण’ का सारांश

विष्णु प्रभाकर जी का ‘कुहासा और किरण’; राजनीतिक वातावरण पर आधारित नाटक है। नाटक की पृष्ठभूमि में स्वतन्त्रता-प्राप्ति से 15 वर्ष पूर्व की कथा छिपी है।।

मुलतान में चन्द्रशेखर, राजेन्द्र, चन्दर, हाशमी तथा कृष्णदेव नाम के देशभक्तों ने अंग्रेजी सरकार के विरुद्ध क्रान्ति की योजना बंनायी। अंग्रेज सरकार इन लोगों के षड्यन्त्र से बौखला गयी। इसी समय कृष्णदेव सरकार को मुखबिर बन गया। इस कारण शेष चार साथियों को कठोर कारावास मिला। सन् 1946 ई० में ये लोग जेल से मुक्त हुए। हाशमी और चन्दर निर्धनता के कारण समाप्त हो गये। राजेन्द्र ने नौकरी की, परन्तु उसका शरीर कार्य करने में सक्षम न था। चन्द्रशेखर तपेदिक रोग से पीड़ित हो गया और उसकी पत्नी मालती बेसहारा हो गयी। सन् 1947 ई० में देश स्वतन्त्र हुआ। सन् 1942 ई० का धोखेबाज मुखबिर कृष्णदेव अब देशभक्त नेता बन गया। उसने अपना नाम कृष्ण चैतन्य रख लिया। नाटक के सारांश को तीन अंकों में प्रस्तुत किया जा रहा है।

प्रथम अंक – नाटक का प्रारम्भ नेताजी कृष्ण चैतन्य के निवास पर उनकी षष्ठिपूर्ति के अवसर पर उनकी सेक्रेटरी सुनन्दा और अमूल्य के वार्तालाप से होता है। उन्होंने इस अवसर पर नेताजी को बधाई दी। अन्य लोग भी उन्हें बधाई देने के लिए पहुँचे। अब कृष्ण चैतन्य सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में है 250 प्रति माह राजनीतिक पेंशन पाते हैं। वे प्रत्येक प्रकार के गैर-कानूनी कार्य करते हैं। उन्होंने सुनन्दा नामक लड़की को अपनी व्यक्तिगत सचिव नियुक्त किया और उसके माध्यम से ब्लैकमेल जैसे घृणित कार्य भी किये। कृष्ण चैतन्य के ये कार्य उसकी पत्नी गायत्री को नहीं सुहाते थे। देशभक्त राजेन्द्र के पुत्र अमूल्य के नौकरी की तलाश में कृष्ण चैतन्य के पास आने पर वे उसे विपिन बिहारी के यहाँ सम्पादक की नौकरी दिला देते हैं। अमूल्य की रिश्ते की एक बहन प्रभा; चैतन्य के यहाँ आती-जाती है।

चन्द्रशेखर की विक्षिप्त पत्नी मालती; कृष्ण चैतन्य से राजनीतिक पेंशन दिलाने का आग्रह करने हेतु उसके पास आती है और उसको पहचान लेती है। वहाँ उपस्थित अमूल्य को भी उसकी असली स्थिति का आभास हो जाता है।

द्वितीय अंक – द्वितीय अंक का प्रारम्भ विपिन बिहारी के निजी कक्ष से होता है। पाँच-पाँच पत्रिकाओं के मुख्य अधिकारी विपिन बिहारी अपने कक्ष में बैठे हैं। अमूल्य के आवेदन-पत्र को पढ़कर विपिन बिहारी उसके पिता के विषय में पूछते हैं। अमूल्य ने मुलतान षड्यन्त्र केस के विषय में विपिन बिहारी को बताया। सुनन्दा ने विपिन बिहारी से कहा कि कृष्ण चैतन्य कांग्रेस का मुखौटा लगाये एक देशद्रोही है, किन्तु विपिन बिहारी किसी भी कीमत पर कृष्ण चैतन्य का विरोध करने का साहस नहीं कर पाता। सभी को यह पता चल जाता है कि आज का महान् कांग्रेसी नेता कृष्ण चैतन्य देशद्रोही व मित्रघाती-मुखबिर कृष्णदेव है।

अपनी वास्तविकता को प्रकट हुआ देख कृष्ण चैतन्य, अमूल्य को फंसाने का प्रयास करता है। यातनाओं के कारण अमूल्य आत्महत्या करने का भी प्रयास करता है, परन्तु पुलिस उसको बचाकर अस्पताल ले जाती है। कृष्ण चैतन्य की पत्नी गायत्री को यह सब जानकर बहुत ग्लानि होती है और वह अपने पति को सभी बुरे कार्य : छोड़ने का परामर्श देती है। गायत्री की कार एक ट्रक के साथ टकरा जाती है और गायत्री का देहान्त हो जाता है। पत्नी की मृत्यु के बाद चैतन्य को आत्मग्लानि होती है। यहीं पर दूसरा अंक समाप्त हो जाता है।

तृतीय अंक – यह अंक कृष्ण चैतन्य के निवास से आरम्भ होता है। कृष्ण चैतन्य अपनी पत्नी गायत्री के चित्र के सम्मुख बैठकर अपनी भूलों के लिए प्रायश्चित्त करते हैं तथा गायत्री के बलिदान की महत्ता को स्वीकार करते हैं। सभी लोग शंकित हैं कि यह मामला गायत्री की मृत्यु का नहीं वरन् आत्महत्या का है।

सुनन्दा द्वारा दी गयी सूचना पर वहाँ गुप्तचर विभाग के अधिकारी आ जाते हैं। सुनन्दा अमूल्य का परिचय देते हुए उसे निर्दोष बताती है। कृष्ण चैतन्य भी कागज-चोरी की कहानी को मनगढ़न्त बताते हैं। वे विपिन बिहारी और उमेशचन्द्र के कुकृत्यों का भी पर्दाफाश कर देते हैं। तभी मालती अपनी पेंशन के लिए उनके पास पहुँच जाती है। कृष्ण चैतन्य उससे क्षमा याचना करते हुए उसे अपना सर्वस्व सौंप देते हैं। विपिन बिहारी और उमेशचन्द्र को बन्दी बना लिया जाता है। गुप्तचर अधिकारी कृष्ण चैतन्य को भी साथ चलने के लिए कहते हैं। वे अपनी पत्नी के चित्र को प्रणाम करके उनके साथ चल देते हैं। अमूल्य को निर्दोष सिद्ध होने पर छोड़ दिया जाता है। उसके “बलिदान कभी व्यर्थ नहीं जाता”.-इस कथन के साथ ही नाटक समाप्त हो जाता है।

Kuhasa Or Kiran Natak प्रश्न 2:
नाटक के तत्त्वों (नाट्यकला) की दृष्टि से ‘कुहासा और किरण’ नाटक की समीक्षा (आलोचना) कीजिए।
या
भाषा-शैली की दृष्टि से ‘कुहासा और किरण’ की समीक्षा कीजिए।
या
पात्र तथा चरित्र-चित्रण की दृष्टि से ‘कुहासा और किरण’ नाटक की समीक्षा कीजिए।
या
संवाद (कथोपकथन) की दृष्टि से ‘कुहासा और किरण’ नाटक की समीक्षा कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण’ की कथावस्तु (कथानक) की समीक्षा कीजिए।
या
अभिनय की दृष्टि से ‘कुहासा और किरण’ नाटक की समीक्षा कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण के उद्देश्य पर अपने विचार व्यक्त कीजिए।
या
रंगमंचीयता की दृष्टि से ‘कुहासा और किरण’ की समीक्षा कीजिए।
या
कुहासा और किरण नाटक के प्रतिपाद्य पर प्रकाश डालिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटकं की भाषा-शैली पर प्रकाश डालिए।
या
देश-काल और वातावरण की दृष्टि की दृष्टि से ‘कुहासा और किरण’ की समीक्षा कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक में स्वातन्त्र्योत्तर भारतीय समाज का यथार्थ चित्र अंकित किया गया है।” इस कथन की सार्थकता सिद्ध कीजिए।
या
“कुहासा और किरण’ नाटक के सन्देश पर प्रकाश डालिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक के संवाद प्रभावशाली हैं। इस कथन की समीक्षा कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक की विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।
उत्तर:

Kuhasa Aur Kiran ‘कुहासा और किरण’ की तात्त्विक समीक्षा

प्रस्तुत नाटक भारत की वर्तमान राजनीतिक तथा सामाजिक परिस्थितियों का सच्चा दर्पण है। नाटककार श्री विष्णु प्रभाकर ने नाटक के रचना-विधान में नाटकीय तत्त्वों के निर्वाह का ध्यान रखा है। नाटकीय तत्त्वों के आधार पर नाटक का विश्लेषण निम्नलिखित है

(1) कथावस्तु – इस नाटक का कथानक भारत की वर्तमान परिस्थितियों पर आधारित है। यह एक । समस्यामूलक कथानक है, जो स्वाधीन भारत के सामाजिक और राजनीतिक जीवन से सम्बन्धित है। अवसरवादी भ्रष्ट नेताओं के कारनामों का कच्चा चिट्ठा नाटक के माध्यम से खोला गया है। देश की स्वतन्त्रता के लिए प्राणों की बाजी लगा देने वाले लोगों की दुर्दशा भी वर्तमान का एक कटु सत्य है, जिसे लेखक ने बड़ी कुशलता से उभारा है। कथावस्तु को तीन अंकों में बाँटा गया है। पहले अंक में कथानक का आरम्भ तथा विकास है, दूसरे में चरम-सीमा तथा तीसरे अंक में उपसंहार और अन्त हुआ है। स्वाभाविकता, रोचकती, यथार्थता, सुसम्बद्धता आदि गुणों की दृष्टि से प्रस्तुत नाटक का कथानक परिपूर्ण है और उसमें आज के जीवन की सजीव झाँकी दिखाई देती है। लेखक ने अपने प्रतिपादित विषय को पूर्ण सफलता के साथ प्रस्तुत किया है। इस प्रकार कथावस्तु की दृष्टि से नाटक एक सशक्त और सफल रचना है।

(2) पात्र तथा चरित्र-चित्रण – कृष्ण चैतन्य (कृष्णदेव), अमूल्य, उमेशचन्द्र तथा विपिन बिहारी नाटक के प्रमुख पुरुष-पात्र हैं, जब कि प्रभा, सुनन्दा, मालती तथा गायत्री नारी-पात्र हैं। अन्य पात्रों में क्रान्तिकारी चन्द्रशेखर, राजेन्द्र, हाशमी तथा चन्दर हैं। इनकी भूमिका गौण है। कृष्ण चैतन्य अवसरवादी मनोवृत्ति का पात्रं है। वह सभी प्रकार के नीच एवं घृणास्पद धन्धों में लिप्त रहता है। अमूल्य प्रसिद्ध देशभक्त राजेन्द्र का बेटा है। वह ईमानदार, परिश्रमी, देशभक्त, पढ़ा-लिखा और उदात्त स्वभाव वाला युवक है। नारी पात्रों में सुनन्दा तथा प्रभा अधिक प्रखर बुद्धिवाली हैं। ये दोनों भ्रष्टाचार का विरोध करती हैं। गायत्री सामान्य भारतीय नारी है। पात्र तथा चरित्र-चित्रण की दृष्टि से यह एक सफल रचना है। नाटक के सभी पात्र जीवन्त प्रतीत होते हैं। उनके व्यवहार में भी वास्तविकता का ध्यान रखा गया है। आज के वातावरण में रचे-बसे पात्रों का चित्रण नाटककार की सफलता का प्रतीक है।

(3) संवाद-योजना – नाटक में संवादों का विशेष महत्त्व होता है। निर्विवाद रूप से संवाद इस नाटक के प्राण हैं। ‘कुहासा और किरण’ की संवाद-रचना उत्तम है। संवाद पात्रों के चरित्र के अनुरूप तथा परिवेश को सजीव बनाने में समर्थ हैं। नाटककार ने छोटे और संक्षिप्त संवादों के द्वारा पात्रों की मानसिक स्थिति, चरित्र और भावों को अत्यन्त कुशलता से चित्रित किया है। नाटक के सरल, गतिशील और स्वाभाविक संवादों को एक नमूना प्रस्तुत हैं

अमूल्य  –  तुम आ गयीं सुनन्दा ?
सुनन्दा  –   इसमें भी सन्देह है ?
अमूल्य  –  (हँसकर) मेरा मतलब यह नहीं था। मैं तो कहना चाहता था कि आज तुम देर से आयी हो, जड़ कि आना जल्दी चाहिए था।
सुनन्दा  –  (पास आकर) क्यों आना चाहिए था ?
अमूल्य  –  क्योंकि आज से ही तो सर का षष्ठिपूर्ति महोत्सव’ आरम्भ होता है।
सुनन्दा  –  ओ’………….”समझी ! (व्यंग्य से) सर के प्रति बड़ी श्रद्धा है तुममें।
संवादों द्वारा पात्रों की मानसिक स्थिति और मनोभावों को कुशलता से चित्रित किया गया है

कृष्ण चैतन्य – (आवेश में आकर) विल यू ऑल शट अप ? (चीखकर) गेट आउट, गेट आउट।
संवादों में सामाजिक व्यंग्य और कृटूक्तियाँ भी प्रचुर मात्रा में विद्यमान हैं; जैसे

(i) हमाम में सभी नंगे हैं और नंगा नंगे को क्या नंगा करेगा ?
(ii) अन्धे को सत्य दिखाते-दिखाते स्वयं अन्धा होने की मेरी जरा भी इच्छा नहीं है।
संवादों में सहजता तथा पैनापन है। ये पात्रों के चरित्र को सफलता से प्रकट करते हैं तथा परिस्थितियों को सही प्रकार से प्रस्तुत करने में सक्षम हैं।।

(4) भाषा-शैली – नाटक की भाषा सामान्य खड़ी बोली है। प्रचलित अंग्रेजी, उर्दू, संस्कृत शब्दों का प्रयोग प्रचुर मात्रा में हुआ है। अंग्रेजी शब्द; जैसे—सर, केस, ब्लैक-मार्केट, इंस्पेक्टर, सोशल, बाइकॉट इत्यादि हैं। उर्दू शब्दों में बेनक़ाब, बेईमान, बेगुनाह, पोशाक, ज़मानत इत्यादि अनेक शब्द हैं। मुहावरों तथा लोकोक्तियों का प्रयोग सुन्दरता से हुआ है; जैसे-‘भाँडा फोड़ना’, ‘लंका में सभी वन गज के’, ‘दूध का धुला’ आदि।। नाटक की शैली रोचक है। इस नाटक की रचना में भारतीय और पचात्य दोनों नाट्य शैलियों का समन्वय प्रस्तुत हुआ है। वस्तुतः नाटक में प्रतीकात्मक शैली का प्रयोग हुआ है। व्यंग्य तथा चुटीलापन इसकी शैली की मुख्य विशेषता है। भाषा की सक्षमता एवं भावानुरूपता का एक उदाहरण कृष्ण चैतन्य के कथन में द्रष्टव्य है

”दार्शनिकों ने जीवन को दो भागों में बाँटा है। पहले भाग की उद्देश्य है-प्रकृति की सेवा अर्थात् परिवार का पालन-पोषण करना। दूसरे भाग का अर्थ है–संस्कृति की सेवा अर्थात् जीवन के उच्च आदर्शों का अनुशीलन। प्रकृति की मूल प्रेरणा है-अपने प्रवाह को बनाये रखना अर्थात् सन्तान-वृद्धि, और संस्कृति की प्रेरणा जीवन के तत्त्व-रूप आदर्शो की चरितार्थता।”

(5) देश-काल तथा वातावरण – प्रस्तुत नाटक में देश-काल और वातावरण को यथार्थ और उचित निर्वाह हुआ है। आधुनिक युग के सामान्य भारतीय की मूल प्रवृत्ति “कैसे भी पैसा कमाने की नीयत’ को सुन्दर ढंग से चित्रित किया गया है। कृष्ण चैतन्य जैसे कपटी राष्ट्रभक्तों एवं धूर्त समाज-सेवकों के जीवन-स्तर, उनकी सामाजिक प्रतिष्ठा, काले-धन्धे में लिप्त पूँजीपतियों और पत्रकारों से उनके सम्बन्ध तथा ईमानदार लोगों की सामाजिक-आर्थिक दशा का चित्रण एक सजीव और वास्तविक लगने वाले वातावरण में हुआ है। भारतीयता के माथे पर लगे इस कलंक को अमूल्य, सुनन्दा तथा प्रभा जैसे युवा ही धो सकते हैं। भाषा, वेश-भूषा तथा स्थान इत्यादि के चयन में नाटककार सजग रहे हैं। इस प्रकार ‘कुहासा और किरण’ देश-काल तथा वातावरण की
दृष्टि से एक सफल रचना है।

(6) अभिनेयता – ‘कुहासा और किरण मंचन की दृष्टि से अच्छी रचना है। प्रस्तुत नाटक के पात्र सामान्य वेश-भूषा से युक्त और सीमित संख्या में हैं। अंक भी सीमित हैं। सम्पूर्ण नाटक तीन अंकों में विभाजित है। नाटककार ने आवश्यकतानुसार रंग-संकेत, मंच-सज्जा तथा वातावरण को स्पष्ट किया है। मंचन की दृष्टि से अधिक सामान जुटाने की आवश्यकता नहीं पड़ती। आधुनिक परिवेश का नाटक होने के कारण सभी प्रकार के वस्त्रादि प्रयोग किये जा सकते हैं। नारी पात्र कम हैं तथा वेशभूषा की कोई समस्या नहीं आती। कहने का तात्पर्य यह है कि नाटक पूर्ण रूप से अभिनेयता की कसौटी पर कसा जा सकता है।

(7) उद्देश्य अथवा सन्देश – नाटककार का उद्देश्य आधुनिक समस्याओं का प्रस्तुतीकरण रहा है। समस्याओं के साथ-साथ लेखक ने उनका समाधान प्रस्तुत करने का भी प्रयास किया है; जैसे – नकली देशभक्तों का स्वार्थ-सिद्धि के लिए राष्ट्र-प्रेम दिखाना। लोकतन्त्र में प्रेस की स्वतन्त्रता है, लेकिन इस नाटक द्वारा नाटककार ने ऐसे सम्पादकों का भण्डाफोड़ किया है, जो सरकार के साथ-साथ जनता को भी भ्रमित करते और लूटते हैं। कृष्ण चैतन्य, विपिन बिहारी और उमेशचन्द्र जैसे मगरमच्छों से जनसाधारण को परिचित कराना भी नाटक का उद्देश्य है। भ्रष्ट आचरण वाले ऐसे व्यक्तियों के मुखौटे उतारकर रख देना, मुखबिरों के रहस्य को खोल देना तथा समाज में व्याप्त चोर दरवाजों को तोड़ देना आदि इस नाटक के मुख्य उद्देश्य हैं। नाटककार का वास्तविक उद्देश्य भारत के नव-निर्माण का है। समाधान के रूप में प्रभाकर जी ने बताया है कि एकता में शक्ति है। सब मिलकर ही समाज में व्याप्त भ्रष्टाचार को समाप्त कर सकते हैं।

कुहासा और किरण प्रश्न 3:
‘कुहासा और किरण’ नाटक के उस पुरुष-पात्र का चरित्र-चित्रण कीजिए, जिसने आपको सबसे अधिक प्रभावित किया हो।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक के प्रमुख पात्र (नायक) का चरित्र-चित्रण कीजिए।
या
अमूल्य के चरित्र-वैशिष्ट्य पर प्रकाश डालिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक का नायक (प्रमुख पात्र) कौन है? उसकी चारित्रिक विशेषताओं का उल्लेख संक्षेप में कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण नाटक के किसी एक पात्र का चरित्र-चित्रण कीजिए।
उत्तर:

अमूल्य का चरित्र-चित्रण

अमूल्य; श्री विष्णु प्रभाकर कृत ‘कुहासा और किरण’ नाटक का नायक तथा देशभक्त राजेन्द्र का पुत्र है। अमूल्यं ऐसे नवयुवकों का प्रतिनिधित्व करता है, जो देश के भ्रष्ट वातावरण में भी ईमानदारी का जीवन जीना चाहते हैं तथा जिन्हें देश से प्रेम है। उसके चरित्र की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं

(1) देशभक्त युवक – अमूल्य का पिंता सच्चा देशभक्त था। पिता के गुण अमूल्य में भी विद्यमान हैं। वह देश को व्यक्ति से अधिक मूल्यवान् मानता है। उसका कथन है – “हमारे लिए देश सबसे ऊपर है। देश की स्वतन्त्रता हमने प्राणों की बलि देकर पायी थी, उसे अब कलंकित न होने देंगे।”

(2) कर्तव्यपरायण – अमूल्य अपने सभी कर्तव्यों के प्रति जागरूक है। पिता की असमय मृत्यु के पश्चात् भी परिश्रम के बल पर वह अपना अध्ययन पूरा करता है। वह जिस कार्य पर भी लगता है, उसे पूर्ण लगन के साथ पूरा करता है।

(3) सत्यवादी – अमूल्य सत्यवादी है। कृष्ण चैतन्य जैसे व्यक्ति के सम्पर्क में आकर भी वह अपनी ईमानदारी और सच्चाई का रास्ता नहीं छोड़ती। षड्यन्त्र में फंसने पर भी वह दृढ़ रहता है और कहता है-“चलिए, कहीं भी चलिए। मुझे जो कहना है, वह कहूँगा।”

(4) निर्भीक तथा साहसी – अमूल्य साहसी युवक है। वह पुलिस इन्स्पेक्टर से नहीं डरता और विपिन बिहारी को सबके सामने बेईमान कहता है। पुलिस इन्स्पेक्टर के सामने वह साहसपूर्वक कहता है-”यह षड्यन्त्र है. ………”आप सदा ब्लैक से कागज बेचते हैं और मुझे फंसाना चाहते हैं: …………“आप सब नीच ………..“आप देशभक्त की पोशाक पहने देशद्रोही हैं, भेड़िये हैं।”

(5) आदर्श मार्गदर्शक – अमूल्य आधुनिक युवकों के लिए एक आदर्श मार्गदर्शक है। वह भ्रष्ट आचरण वाले व्यक्तियों के मुखौटे उतारने का संकल्प लेता है। देशसेवा के प्रति अमूल्य के शब्दों को देखिए “अब आवश्यकता है कि हम देशसेवा का अर्थ समझे। जो शैतान मुखौटे लगाये शिव बनकर घूम रहे हैं, उनके वे मुखौटे उतारकर उनकी वास्तविकता प्रकट करें।”

(6) सरल स्वभाव वाला – अमूल्य सरल स्वभाव वाला स्वामिभक्त युवक है। सुनन्दा उसके सरल स्वभाव को देखकर ही कहती है-”पिताजी की बात अभी रहने दो। देखा नहीं था तुमने ? उनका नाम सुनकर सब चौंक पड़े थे। उनसे पिताजी की बात मत कहना अभी।”

इस प्रकार ‘कुहासा और किरण’ नाटक का सबसे अनमोल चरित्र अमूल्य का है। वह नाटक का नायक भी है। वह भ्रष्टाचार तथा निराशापूर्ण कुहासे को भेदकर कर्तव्यनिष्ठा, दृढ़ता, सत्यता, देशभक्ति तथा निर्भीकता की स्वर्णिम प्रकाश-किरणों से समाज को आलोकित करना चाहता है। अमूल्य ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ के आदर्श का प्रतीक है।।

Kuhasa Aur Kiran Natak In Hindi Pdf प्रश्न 4:
‘कुहासा और किरण’ के आधार पर कृष्ण चैतन्य का चरित्र-चित्रण कीजिए।
या
कृष्ण चैतन्य की चारित्रिक विशेषताओं का वर्णन कीजिए।
या
“कुहासा और किरण’ नाटक का खलनायक कौन है ? उसकी चरित्रगत विशेषताएँ बताए।
उत्तर:

कृष्ण चैतन्य का चरित्र-चित्रण

‘कुहासा और किरण’ नाटक में कृष्ण चैतन्य’ का चरित्र अवसरवादी, स्वार्थी तथा सभी प्रकार से भ्रष्ट व्यक्ति के रूप में प्रस्तुत किया गया है। वह नाटक का खलनायक है। आज कृष्ण चैतन्य जैसे अनेक नेता अपनी स्वार्थ सिद्धि हेतु; समाज और देश को खोखला करने में लगे हैं। कृष्ण चैतन्य के चरित्र से सम्बद्ध धनात्मक और
ऋणात्मक विशिष्टताओं की विवेचना निम्नलिखित है

(1) अवसरवादी – कृष्ण चैतन्य पक्का अवसरवादी है। वह पहले अंग्रेजों का दलाल बना रहता है, फिर कांग्रेसी नेता बन जाता है।
(2) मित्रघाती – कृष्ण चैतन्य अपने साथियों की मुखबिरी करके उन्हें पकड़वा देता है। इस प्रकार मित्रघाती होने का भी वह दोषी है, जब कि वह इस कलंक को छिपाने की भरसक चेष्टा करता है।
(3) चतुर – चालाक – कृष्ण चैतन्य चतुर तथा चालाक है। उसका मत है कि-”कुछ करने से पहले सौ बार सोच लेना बुद्धिमानी का लक्षण है।”
(4) भ्रष्टाचार का प्रतीक – कृष्ण चैतन्य सभी प्रकार के गलत हथकण्डों में माहिर है। वह ब्लैकमेल करता है, रिश्वत लेता है। इसी प्रकार की दूसरी अनेक बुराइयाँ; जैसे – क्रूरता, कठोरता और धनलिप्सा का आधिक्य भी उसमें विद्यमान है।
(5) देशद्रोही – ‘मुलतान षड्यन्त्र’ की मुखबिरी करके वह देशद्रोही बनता है। इसके उपरान्त भी वह समाज तथा देश के साथ गद्दारी करता ही रहता है।
(6) कृत्रिमता तथा आडम्बर से परिपूर्ण – कृष्ण चैतन्य का जीवन कृत्रिमता तथा आडम्बर से पूर्ण है। वह मुलतान केस में अंग्रेजों का मुखबिर बनकर देश के साथ गद्दारी करता है, किन्तु देश और समाज की सेवा का ढोंग रचता है, जिससे वह शासन और जनता दोनों की आँखों में धूल झोंकता रहता है।
(7) प्रभावशाली व्यक्तित्व – कृष्ण चैतन्य का व्यक्तित्व प्रभावशाली है। उसके प्रभावशाली व्यक्तित्व के कारण ही सरकार व प्रशासन पर उसका पर्याप्त प्रभाव है।
(8) दूरदर्शी – कृष्ण चैतन्य दूरदर्शी व्यक्ति है। अपनी दूरदर्शिता के कारण ही वह अपने वास्तविक नाम ‘कृष्णदेव’ को बदलकर ‘कृष्ण चैतन्य’ रख लेता है। विपिन बिहारी के यहाँ अमूल्य की नियुक्ति उसकी दूरदर्शिता का ही परिचायक है।
(9) आत्मपरिष्कार की भावना – गायत्री का बलिदान कृष्ण चैतन्य में प्रायश्चित्त का भाव उत्पन्न करता है। वह गायत्री के चित्र के सम्मुख पश्चात्ताप करते हुए कहता है-”मेरी आँखें खोलने के लिए तुमने प्राण दे। दिये।”
(10) कूटनीतिज्ञ – कृष्ण चैतन्य एक प्रतिभाशाली और कूटनीतिज्ञ पात्र है। यह ठीक है कि वह अपनी प्रतिभा का दुरुपयोग करता है, जिसके कारण उसका चरित्र घृणित हो जाता है, परन्तु यदि उसकी प्रतिभा का सदुपयोग होता तो वह एक श्रेष्ठ पुरुष बन सकता था।

इस प्रकार कृष्ण चैतन्य के चरित्र में अनेकानेक दोष हैं। अन्त में वह अपनी भूलों के लिए प्रायश्चित्त करते हुए कहता है-“चलिए टमटा साहब, मैंने देश के साथ जो गद्दारी की है, उसकी सजा मुझे मिलनी चाहिए।” इस प्रकार अन्त में अपने दोषों के परिष्कार के प्रयास से वह पाठकों की सहानुभूति का पात्र बन जाता है।

कुहासा और किरण नाटक प्रश्न 5:
सुनन्दा के चरित्र की प्रमुख विशेषताओं का संक्षेप में उल्लेख कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक के प्रमुख नारी-पात्र का चरित्र-चित्रण कीजिए।
उत्तर:

सुनन्दा का चरित्र-चित्रण

श्री विष्णु प्रभाकर द्वारा रचित ‘कुहासा और किरण’ नाटक की सुनन्दा प्रमुख नारी-पात्र है। उसके चरित्र की . प्रमुख विशेषताएँ अग्रवत् हैं

(1) भ्रष्टाचार की विरोधी नवयुवतियों की प्रतिनिधि – वह उन नवयुवतियों का प्रतिनिधित्व करती है, जो जागरूक एवं सजग हैं। सुनन्दा दूरदर्शी, साहसी, चतुर, विनोदी, कर्तव्यपरायणी एवं देश में व्याप्त भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए संकल्पबद्ध एक सहयोगी तथा कर्मशीला नवयुवती है। उसे अमूल्य से सहानुभूति है तथा वह समाज के पाखण्डियों के रहस्य खोलने में अन्त तक अमूल्य का साथ देती है। मुखौटाधारी भ्रष्टाचारियों से वह कहती है – ”मैं पुकार-पुकार कर कहूँगी कि आप सब भ्रष्ट हैं, नीच हैं, देशद्रोही हैं। आज नहीं तो कल आपको समाज के सामने जवाब देना होगा।”

(2) जागरूक नवयुवती – सुनन्दा, कृष्ण चैतन्य की सेक्रेटरी है। उसकी आयु 25 वर्ष है। वह जागरूक नवयुवती है और समाचार-पत्रों के महत्त्व तथा उसमें निहित शक्ति को पहचानती है। उसी के शब्दों में- “शक्ति-संचालन का सूत्र जितना समाचार-पत्रों के हाथ में है, उतना और किसी के नहीं।”

(3) वाक्पटु – सुनन्दा की वाक्पटुता देखते ही बनती है। वह उमेशचन्द्र और कृष्ण चैतन्य की मिलीभगत से परिचित है। उसकी व्यंग्यपूर्ण वाक्पटुता देखिए-“आकाश जैसे पृथ्वी को आवृत्त किये है, वैसे ही आप उनको ( कृष्ण चैतन्य को) आवृत्त किये हैं। आकाश के कारण ही पृथ्वी अन्नपूर्णा होती है।”

(4) देशद्रोहियों की प्रबल विरोधी – स्वच्छ मुखौटाधारी देशद्रोहियों का सुनन्दा प्रबल विरोध करती है। वह विपिन बिहारी को भी खरी-खोटी सुनाती है। वह उससे कृष्ण चैतन्य के विषय में स्पष्ट कहती है-”क्या आपको अब भी पता नहीं कि कृष्ण चैतन्य वह नहीं हैं जो दिखाई देते हैं। वह मुखौटा लगाये एक देशद्रोही है।

(5) मुखौटाधारियों की विरोधिनी – अवसर आने पर सुनन्दा मुखौटाधारियों का प्रबल विरोध करती हैं। यहाँ तक कि वह चाहती है कि गायत्री द्वारा लिखा गया पत्र पुलिस के हवाले कर दिया जाए, क्योंकि पत्र पुलिस के हाथ में पहुँचने पर कृष्ण चैतन्य की परेशानी बढ़ सकती थी। वह उमेशचन्द्र अग्रवाल को लक्ष्य कर कहती है-”मुझे घिनौने चेहरों से सख्त नफरत है। गायत्री माँ के बलिदान के पीछे जो उदात्त भावना है, वह जनता तक पहुँचनी ही चाहिए।”

(6) सहृदया – सुनन्दा के हृदय में अमूल्य के प्रति सहानुभूति है। वह उसकी विवशता को समझती है। जब अमूल्य चोरी के झूठे जुर्म में गिरफ्तार कर लिया जाता है, तब वह अन्याय से जूझने के लिए तत्पर हो जाती है।

इस प्रकार सुनन्दा एक प्रगतिशील, व्यवहारकुशल व स्वदेश-प्रेमी नवयुवती के रूप में पाठकों पर अपनी विशिष्ट छाप छोड़ती है।

Kuhasa Aur Kiran Natak Pdf प्रश्न 6:
‘कुहासा और किरण’ नाटक के शीर्षक की सार्थकता पर प्रकाश डालिए।
या
विष्णु प्रभाकर ने नाटक का नाम ‘कुहासा और किरण’ क्यों रखा है?
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक के शीर्षक का औचित्य स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:

‘कुहासा और किरण’ शीर्षक की सार्थकता

‘कुहासा और किरण’ में नाटककार श्री विष्णु प्रभाकर भ्रष्टाचार, निराशा और छद्म के कुहासा से धुंधलाते वातावरण को देशप्रेम, कर्तव्यनिष्ठा, व्यवहारकुशलता और नवचेतना की किरण से नष्ट करना चाहते हैं। कुहासे के रूप में कृष्ण चैतन्य, विपिन बिहारी, उमेशचन्द्र जैसे पात्र हैं तो किरण के रूप में अमूल्य, सुनन्दा आदि पात्र। ये भ्रष्टाचार और पाखण्ड के कुहासे को अपने आचरण की किरण से दूर करते हैं। इसीलिए लेखक ने इस नाटक का नाम ‘कुहासा और किरण’ रखा है, जो पूर्णरूपेण सार्थक भी है।

कुहासा और किरण के लेखक प्रश्न 7:
‘कुहासा और किरण’ आधुनिक भारत की सामाजिक और राजनीतिक समस्या को राष्ट्रीय परिवेश में व्यंजित करता है।” इस कथन पर अपने विचार व्यक्त कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक की समस्या पर प्रकाश डालिए।
या
“कुहासा और किरण’ के उद्देश्य पर प्रकाश डालिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक में सामाजिक समस्याओं और ऐतिहासिक घटनाओं का सुन्दर सामंजस्य है।” स्पष्ट कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण’ का उद्देश्य शैतान के भीतर के शिव को जगाना है। स्पष्ट कीजिए।
या
‘कुहासा और किरण’ नाटक में उठायी गयी समस्याओं का उल्लेख करते हुए उसकी विवेचना कीजिए।
उत्तर:
श्री विष्णु प्रभाकर ने प्रस्तुत नाटक ‘कुहासा और किरण’ के माध्यम से आधुनिक भारतीय समाज में फैले भ्रष्टाचाररूपी: कुहासे का यथार्थ चित्र प्रस्तुत किया है। उनका उद्देश्य समाज में व्याप्त बुराइयों को आवरणरहित करना तथा उनका समाधान सुझाना है। कृष्ण चैतन्य जैसे अनेक अवसरवादी नेता आज शासक दल में घुसे हैं। उनका दीन-ईमान मात्र धन है। धन कमाने के लिए इस प्रकार के नेतागण सभी प्रकार के बुरे कार्य कर सकते हैं। नाटक में अनेक समस्याएँ प्रस्तुत की गयी हैं। दिखावटी देशभक्त, भ्रष्ट समाचार-पत्र, लुटेरे समाज-सेवक, चोरबाजारी तथा भयादोहन करने वाले सफेदपोश अपराधी आदि इस नाटक में बुराइयों तथा ज्वलन्त समस्याओं के रूप में प्रस्तुत किये गये हैं।

उपर्युक्त समस्याओं का समाधान खोजने का प्रयत्न भी विष्णु प्रभाकर जी ने किया है। उनका मत है कि यदि अमूल्य, सुनन्दा, प्रभा तथा मालती जैसे लोग भ्रष्टाचारियों पर प्रहार करें तो भ्रष्ट लोगों के झूठे मुखौटे उतारे जा सकते हैं। प्रभा के शब्दों में- ”मैं मुखौटा लगाये मुखबिरों को, भ्रष्टाचारियों को, देश में फैले छद्मवेशधारियों को बेनकाब करूंगी। मैं पुकारे-पुकारकर कहूँगी कि आप सब भ्रष्ट हैं, नीच हैं, देशद्रोही हैं। आज नहीं तो कल आपको समाज के सामने जवाब देना होगा। गायत्री माँ के बलिदान के पीछे जो उदात्त भावना है, वह जनता तक पहुँचनी ही चाहिए।”

इस प्रकार ‘कुहासा और किरण’ नाटक में आधुनिक भारतीय जीवन के यथार्थ चित्र प्रस्तुत किये गये हैं। समाज के बदनुमा धब्बों को उभारा गया है तथा साथ ही इन दागों को मिटाने का मार्ग भी सुझाया गया है।

Kiran Natak प्रश्न 8:
‘कुहासा और किरण’ नाटक में निहित व्यंग्य पर प्रकाश डालिए।
उत्तर:
श्री विष्णु प्रभाकर ने कुहासा और किरण’ नाटक में आधुनिक भारतीय समाज में व्याप्त भ्रष्टाचाररूपी कुहासे का व्यंग्यपूर्ण चित्रण किया है। इस नाटक के माध्यम से समाज में व्याप्त बुराइयों को आवरणहीन करना तथा उनका समाधान सुझाना है। कृष्ण चैतन्य जैसे अनेक अवसरवादी नेताओं के मुंह पर करारा तमाचा है, जिनका दीन-ईमान मात्र धन है। धन कमाने के लिए इस प्रकार के नेतागण सभी प्रकार के बुरे कार्य कर सकते हैं। दिखावटीं देशभक्त, भ्रष्ट समाचार-पत्र, लुटेरे समाज-सेवक, चोरबाजारी तथा भयादोहन करने वाले सफेदपोश अपराधी आदि इस नाटक में बुराइयों तथा ज्वलन्त समस्याओं के रूप में प्रस्तुत किये गये हैं। भ्रष्ट आचरण वाले व्यक्तियों के मुखौटे उतारकर रख देना, मुखबिरों के रहस्य को खोल देना तथा चोर दरवाजों को तोड़ देना आदि व्यंग्य प्रधास बातें हैं जो आज के युग में व्याप्त हैं। अत: हम कह सकते हैं कि यह नाटक व्यंग्य प्रधान है।

We hope the UP Board Solutions for Class 11 Sahityik Hindi नाटक Chapter 1 कुहासा और किरण (विष्णु प्रभाकर) help you. If you have any query regarding UP Board Solutions for Class 11 Sahityik Hindi नाटक Chapter 1 कुहासा और किरण (विष्णु प्रभाकर), drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

error: Content is protected !!
Scroll to Top